प्रधानमंत्री मोदी ने की रुद्रप्रयाग जिला प्रशासन की तारीफ, केदारनाथ दर्शन के लिए जताया आभार

6

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने ड्रोन कैमरों की मदद से केदारनाथ में चल रहे पुनर्निर्माण कार्यों की स्थिति देखी। दिल्ली स्थित अपने कार्यालय में बैठकर उन्होंने तीन बजकर 43 मिनट पर केदारनाथ में चल रहे पुनर्निर्माण कार्यों का करीब 15 मिनट तक जायजा लिया। इसके बाद उन्होंने केदारनाथ धाम में चल रहे पुनर्निर्माण कार्यों की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जमकर सराहना की।

इसके बाद मुख्य सचिव सहित जिलाधिकारी रुद्रप्रयाग को उन्होंने बधाई दी और कहा कि केदारनाथ जैसे विषम भौगोलिक पारिस्थितियों और लगातार बर्फबारी के बीच पुनर्निर्माण कार्य कर रहे मजूदरों, अधिकारियों एवं कर्मचारियों के हौसलों को सलाम है।

साथ ही ड्रोन कैमरे से केदारनाथ के दर्शन करने पर सबका आभार जताया। विशेष तौर पर रुद्रप्रयाग जिला प्रशासन के कार्यों की प्रधानमंत्री ने तारीफ की। बुधवार को ड्रोन कैमरे से केदारनाथ में चल रहे पुनर्निर्माण कार्यों का जायजा लेते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि केदारनाथ में अच्छा कार्य चल रहा है। खासकर बाबा केदार के मंदिर से सरस्वती नदी पर बने पुल तक जिस रास्ते का निर्माण किया जा रहा है, वह रास्ता अच्छा है।

उन्होंने कहा कि मंदिर से लेकर पुल तक रास्ते पर स्थानीय पत्थर लगाए जांय, जिससे रास्ता भव्य नजर आए। स्थानीय पत्थरों को तरासकर वहां बन रहे चबूतरे आदि पर इनका इस्तेमाल किया जाय। प्रधानमंत्री ने ये भी निर्देश दिए कि विकलांग यात्रियों के लिए अलग से पैदल मार्ग का निर्माण किया जाय, जिससे यात्रियों को चलने में सहूलियत मिल सके। साथ ही निर्देश दिए कि केदारनाथ ट्रस्ट का गठन शीघ्र किया जाय। जो भी व्यक्ति मदद करेगा, उसे इस ट्रस्ट में डाला जाएगा। इस धनराशि से केदारनाथ में चल रहे पुनर्निर्माण कार्यों में मदद मिलेगी।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने खास तौर पर रुद्रप्रयाग के जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल को केदार बाबा के दर्शन करवाने के लिए धन्यवाद ज्ञापित किया। जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल ने बताया कि केदारनाथ में कार्य जारी हैं। आगामी यात्रा सीजन में नई केदारपुरी देखने को मिलेगी। पैदल मार्ग पर प्रधानमंत्री के निर्देशों के अनुसार लोकल पत्थर लगाएं जाएंगे। साथ ही मुख्य रास्ते के अलावा दो पैदल रास्ते अतिरिक्त बनाये जाएंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here